स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेंद्र यादव का लेख: मुद्दा क्यों नहीं नशामुक्ति का सवाल?

स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेंद्र यादव का लेख: मुद्दा क्यों नहीं नशामुक्ति का सवाल?

अगर औरतों को इस देश में एक दिन के लिए राजपाट मिल जाये, तो वे क्या फैसला करेंगी? आप जब, जहां चाहे औरतों के समूह से यह सवाल पूछ लें, आपको एक ही जवाब मिलेगा. लेकिन, हमारे लोकतंत्र में यह मुद्दा राष्ट्रीय चुनाव का मुद्दा क्यों नहीं बनता? तीन अलग-अलग मौकों पर यह सवाल मेरे सामने मुंह बाये खड़ा हुआ […]

An Interview with Swaraj India Presidium Member Devanoor Mahadeva: Alternative Politics

An Interview with Swaraj India Presidium Member Devanoor Mahadeva: Alternative Politics

Alternative Politics: An Interview With Devanoora Mahadeva This interview, in Kannada, was first published on August 2nd 2015 in Prajavani. Translated into English and edited by Rashmi Munikempanna. Sarvodaya Karnataka Party, which was founded as a part of Karnataka’s alternative political experiments, merged with Swaraj India in early 2017. Devanoora Mahadeva, who was the president of Sarvodaya Karnataka, is one […]

স্বরাজ ইন্ডিয়া রাষ্ট্রীয় অধ্যক্ষ যোগেন্দ্র যাদবের প্রতিবেদন: ভোট হোক ইভিএমেই, প্রয়োজন শুধু বাড়তি সতর্কতার

স্বরাজ ইন্ডিয়া রাষ্ট্রীয় অধ্যক্ষ যোগেন্দ্র যাদবের প্রতিবেদন: ভোট হোক ইভিএমেই, প্রয়োজন শুধু বাড়তি সতর্কতার

ভোট হোক ইভিএমেই, প্রয়োজন শুধু বাড়তি সতর্কতার নির্বাচন কমিশনের ‘ভোটার ভেরিফায়েবেল পেপার অডিট ট্রায়াল’ বা ভিভিপ্যাট মেশিনের ব্যবহারের সিদ্ধান্ত ইভিএম বিতর্ককে ফের প্রাসঙ্গিক করে তুলেছে। সাম্প্রতিক উপনির্বাচনগুলিতে শাসক পক্ষ জোরালো ধাক্কা খাওয়ার পর আত্মবিশ্বাসী বিরোধী শিবির। বিরোধী নেতাদের অনেকেই ব্যালট পেপারে ভোট গ্রহণের দাবি তুলেছেন। নির্বাচন কমিশন যখন নিজের মতো করে বর্তমান ভোট গ্রহণ ব্যবস্থাকে সার্বিকভাবে গ্রহণযোগ্য করে তোলার চেষ্টা […]

स्वराज अभियान महाराष्ट्र के महासचिव, संजीव साने का लेख: क्या हम हिन्दुओं के हित में काम नही करतें?

स्वराज अभियान महाराष्ट्र के महासचिव, संजीव साने का लेख: क्या हम हिन्दुओं के हित में काम नही करतें?

क्या हम हिन्दुओं के हित में काम नही करतें? देश में विभिन्न विचारों के साथ काम करने वाले अनेक समूह हैं। ज़ाहिर है कि अपने व्यक्तिगत हित से आगे निकलकर बड़े समूह के लिए काम करने का सीधा संबंध विचार से होता है। कोई भी कार्य बिना विचार के नहीं होता, इसलिए उसे स्पष्ट तरीके से लोगों को बताना जरूरी […]

Swaraj India Presidium Member and National Spokesperson Anupam’s article: By-polls Results, Anti-Incumbency and Two Steps Back

Swaraj India Presidium Member and National Spokesperson Anupam’s article: By-polls Results, Anti-Incumbency and Two Steps Back

By-polls Results, Anti-Incumbency and Two Steps Back The results of 4 Lok Sabha and 11 Vidhan Sabha by-polls announced on 31st May prove that a very strong anti-incumbency against Modi government has begun to creep in. Bharatiya Janata Party performing so poorly, that too when the alternatives were not very credible ones, show that the popularity levels of Mr. Modi […]

स्वराज इंडिया हरियाणा के वरिष्ठ नेता रवि भटनागर का लेख: जनतंत्र की कथा, व्यथा और विकल्प

स्वराज इंडिया हरियाणा के वरिष्ठ नेता रवि भटनागर का लेख: जनतंत्र की कथा, व्यथा और विकल्प

जनतंत्र की कथा, व्यथा और विकल्प आज देश की आम जनता और सामाजिक अवस्था, दोनों ही व्यथित हैं। जनता की चाहतें ही नहीं, अब तो मूलभूत ज़रूरतें भी आसमान छू रही हैं. सरकार की हर कोशिश मुसीबतों को और बढाती हुई लगती है. चार साल पहले जनता ने कुछ बेहतर हो जाने की उम्मीदें पाली थीं। अच्छे दिनों के वायदों […]