म्यांमार के रोहिंग्या संकट पर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजीव ध्यानी के लम्बे लेख की सातवीं किश्त

बेघर और बेचारे लोग-7 बहरहाल 25 अगस्त 17 से लेकर यह लेख लिखे जाने तक साढ़े छः लाख से ज्यादा नए रोहिंग्या बांग्लादेश में आ चुके थे, जबकि लगभग सवा दो लाख हज़ार शरणार्थी पहले से ही बांग्लादेश में थे. बांग्लादेश में हज़ारों निर्जन और कम आबादी वाले द्वीप हैं. मीडिया में आई ख़बरों के…

Details

Rupa Hassan’s article dismantles issues that surround how we define productivity, gender bias and how home making is seen as unproductive labour by the State

Rupa Hassan ‘The Labour of Love as Unproductive Labour!!’ English Summary: Rupa Hassan in this article dismantles issues that surround how we define productivity, gender bias and how homemaking is seen as unproductive labor by the State. She asks the foundational questions of who is a worker? what is production? and what is work? to…

Details

म्यांमार के रोहिंग्या संकट पर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजीव ध्यानी के लम्बे लेख की छठवीं किश्त

बेघर और बेचारे लोग-6 अक्टूबर 2016 में बंगलादेश सीमा के निकट म्यांमार की तीन सीमा चौकियों पर आतंकियों ने बड़ी संख्या में इकठ्ठे होकर हमले किए, और बड़ी मात्रा में हथियार और गोला- बारूद लूट ले गए. इस तरह के हमले कई दिनों तक जारी रहे. जवाब में म्यांमार सेना ने अपना पुराना हथियार चला.…

Details

Chukki Nanjundaswamy, Vice President of Swaraj India in Conversation with Mallige Sirimane

ಸ್ವರಾಜ್ ಇಂಡಿಯಾ ಕರ್ನಾಟಕದ ಉಪಾಧ್ಯಕ್ಷರಾದ ಚುಕ್ಕಿ ನಂಜುಂಡಸ್ವಾಮಿ ಅವರೊಂದಿಗೆ ಮಲ್ಲಿಗೆ ಸಿರಿಮನೆಯವರು ನಡೆಸಿದ ಮಾತುಕತೆ ರೈತ ಚಳವಳಿಯ ಪ್ರಮುಖ ನಾಯಕರಾಗಿ ನಮಗೆ ಪುರುಷರು ಹೆಚ್ಚು ಕಂಡರೂ , ಅದರ ಹಿಂದೆ ನಿಂತಿದ್ದ ಶಕ್ತಿ ಮಹಿಳೆಯರದ್ದೇ! ನಿಜವಾಗಿ ಹೇಳಬೇಕೆಂದರೆ, ಬೇರೆ ಯಾವುದೇ ರಾಜಕೀಯ ಆಕಾಂಕ್ಷೆಗಳಿಲ್ಲದೆ ರೈತ ಚಳವಳಿಯನ್ನು ಗಟ್ಟಿಯಾಗಿ ನಿಂತು ನಡೆಸಿದವರು, ನಡೆಸುತ್ತಿರುವವರು, ಅದನ್ನು ಪೂರ್ಣವಾಗಿ ಬೆಂಬಲಿಸಿದವರು ರೈತ ಮಹಿಳೆಯರೇ ಆಗಿದ್ದಾರೆ ಮಹಿಳಾ ಹಕ್ಕುಗಳ ಕುರಿತು ಮಹಿಳಾ ದಿನಾಚರಣೆಯಂದು ದೊಡ್ಡ ಚರ್ಚೆ ನಡೆಯುತ್ತದೆ. ಕರ್ನಾಟಕದಲ್ಲಿ ರೈತ ಚಳವಳಿಗೆ ದೊಡ್ಡ…

Details

Article by Prof. Gourango Chakraborty President of Swaraj Abhiyan West Bengal : A Brief Outline of Electoral Reforms Required for Effective and Meaningful Democracy in India – Part 2

A Brief Outline of Electoral Reforms Required for Effective and Meaningful Democracy in India – Part 2 Multi-day Online/Electronic Voting To relieve the people from electoral sins, to ensure low-cost voting and to encourage 100% participation in the democratic process Multi-day voting is an alternative scientific voting system under which a voter instead of traditionally…

Details

Swaraj India National President Yogendra Yadav’s article: The Great Indian Farm Paradox – Agrarian Society vs Non-Agrarian Economy Poses a Huge Political Challenge

The Great Indian Farm Paradox Agrarian Society vs Non-Agrarian Economy Poses a Huge Political Challenge Just how many farmers are there in India? This is not merely a statistical question. This is a question of policy and political significance. We have all grown up reading about India as an agrarian economy, with a majority of…

Details

म्यांमार के रोहिंग्या संकट पर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजीव ध्यानी के लम्बे लेख की पाँचवीं किश्त

बेघर और बेचारे लोग-5 रोहिंग्याओं के खिलाफ बर्मा यानी म्यांमार की सेना तथा स्थानीय लोगों के ताजातरीन हमले के पीछे दरअसल अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (ARSA) नाम का एक सशस्त्र मिलिटेंट संगठन था. अभी हाल तक इसे ‘हरकत अल यक़ीन’ के नाम से जाना जाता था. लेकिन इस नाम से इसका इस्लामी धार्मिक उद्देश्य ज्यादा…

Details

स्वराज अभियान के जय किसान आंदोलन के राष्ट्रीय सहसंयोजक, अजीत सिंह यादव का लेख: भाजपा को हराने को एकजुट हो रही विपक्षी पार्टियों का जनमुद्दों पर मौन हानिकारक

भाजपा को हराने को एकजुट हो रही विपक्षी पार्टियों का जनमुद्दों पर मौन हानिकारक उत्तरप्रदेश के फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा उपचुनावों से एकजुट हो रही विपक्षी पार्टियों के सामने भाजपा की हार का जो सिलसिला शुरू हुआ वह हाल में कैराना और नूरपुर समेत अन्य जगहों पर हुए उपचुनावों में भी जारी रहा। उपचुनावों में…

Details

An Interview with Swaraj India Presidium Member Devanoor Mahadeva: Alternative Politics

Alternative Politics: An Interview With Devanoora Mahadeva This interview, in Kannada, was first published on August 2nd 2015 in Prajavani. Translated into English and edited by Rashmi Munikempanna. Sarvodaya Karnataka Party, which was founded as a part of Karnataka’s alternative political experiments, merged with Swaraj India in early 2017. Devanoora Mahadeva, who was the president…

Details

Article by Prof. Gourango Chakraborty President of Swaraj Abhiyan West Bengal : A Brief Outline of Electoral Reforms Required for Effective and Meaningful Democracy in India – Part 1

A Brief Outline of Electoral Reforms Required for Effective and Meaningful Democracy in India – Part 1 A democracy to be effective and meaningful needs free and fair voting as the most powerful instrument. Unfortunately, corruption and corrupt practices, political interference, criminalisation back money and illiteracy stand in the way of holding a free and…

Details