म्यांमार के रोहिंग्या संकट पर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजीव ध्यानी के लम्बे लेख की सातवीं किश्त

म्यांमार के रोहिंग्या संकट पर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजीव ध्यानी के लम्बे लेख की सातवीं किश्त

बेघर और बेचारे लोग-7 बहरहाल 25 अगस्त 17 से लेकर यह लेख लिखे जाने तक साढ़े छः लाख से ज्यादा नए रोहिंग्या बांग्लादेश में आ चुके थे, जबकि लगभग सवा दो लाख हज़ार शरणार्थी पहले से ही बांग्लादेश में थे. बांग्लादेश में हज़ारों निर्जन और कम आबादी वाले द्वीप हैं. मीडिया में आई ख़बरों के मुताबिक़ पहले सरकार ने पहले […]

म्यांमार के रोहिंग्या संकट पर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजीव ध्यानी के लम्बे लेख की छठवीं किश्त

बेघर और बेचारे लोग-6 अक्टूबर 2016 में बंगलादेश सीमा के निकट म्यांमार की तीन सीमा चौकियों पर आतंकियों ने बड़ी संख्या में इकठ्ठे होकर हमले किए, और बड़ी मात्रा में हथियार और गोला- बारूद लूट ले गए. इस तरह के हमले कई दिनों तक जारी रहे. जवाब में म्यांमार सेना ने अपना पुराना हथियार चला. आतंकी तो अक्सर उनके हाथ […]

म्यांमार के रोहिंग्या संकट पर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजीव ध्यानी के लम्बे लेख की पाँचवीं किश्त

म्यांमार के रोहिंग्या संकट पर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजीव ध्यानी के लम्बे लेख की पाँचवीं किश्त

बेघर और बेचारे लोग-5 रोहिंग्याओं के खिलाफ बर्मा यानी म्यांमार की सेना तथा स्थानीय लोगों के ताजातरीन हमले के पीछे दरअसल अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (ARSA) नाम का एक सशस्त्र मिलिटेंट संगठन था. अभी हाल तक इसे ‘हरकत अल यक़ीन’ के नाम से जाना जाता था. लेकिन इस नाम से इसका इस्लामी धार्मिक उद्देश्य ज्यादा दिखता था,राजनैतिक कम. इसलिए इसका […]