JOIN

India Deserves Better

VOLUNTEERDONATE

पुलवामा शहीदों की याद में स्वराज इंडिया ने शहीद पार्क तक निकाला श्रद्धांजलि मार्च | iCAN19 के तहत स्वराज इंडिया की दिल्ली यूनिट ने कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया


Press Release

प्रेस नोट 
17.02.2019
स्वराज इंडिया
• पुलवामा शहीदों की याद में स्वराज इंडिया ने शहीद पार्क तक निकाला श्रद्धांजलि मार्च 
 
• आपस में लड़ने की बजाए एकजुट होकर आतंकवाद से लड़ना देश की सामुहिक चुनौती: योगेंद्र यादव 
 
• iCAN19 के तहत स्वराज इंडिया की दिल्ली यूनिट ने कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया
 
• दिल्ली के अहम मुद्दों पर अभियान चलाएगी स्वराज इंडिया
 
• शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा, स्वच्छता, शराब, सार्वजनिक परिवहन से लेकर प्रदूषण जैसे मुद्दों पर चलेगा अभियान
 
• बेरोज़गारी के ख़िलाफ़ चल रहा देशव्यापी मुहिम अब दिल्ली में भी 
 
• किसान और नौजवान को राष्ट्रीय राजनीति के केंद्र में लाएगा स्वराज इंडिया
 
• सम्मेलन में पार्टी अध्यक्ष योगेंद्र यादव, कार्यकारी अध्यक्ष अजित झा, उपाध्यक्ष अनुपम, प्रदेशाध्यक्ष कर्नल जयवीर, प्रदेश महासचिव नवनीत तिवारी उपस्थित रहे
पुलवामा शहीदों की याद में स्वराज इंडिया ने स्वराज इंडिया राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेन्द्र यादव के नेतृत्व में शहीद पार्क तक श्रद्धांजलि मार्च निकाला। शहीद पार्क में मोमबत्तियां जलाकर पुलवामा में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। हमले के तुरंत बाद स्वराज इंडिया ने देश के समक्ष तीन-सूत्री राष्ट्रीय सहमति की योजना पेश की। आज यह समय संयम रखकर, देश की एकजुटता कायम रखने का है।
श्रद्धांजलि मार्च से पहले स्वराज इंडिया की दिल्ली इकाई ने iCan19 के तहत कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया। 2019 के चुनावों को ध्यान में रखते हुए स्वराज इंडिया ने राष्ट्र निर्माण के लिए लोक अभियान 2019 लांच किया है, जिसको अभी तक उत्साहवर्द्धक प्रतिक्रिया मिली है। आगामी लोकसभा चुनाव जनता से जुड़े मुद्दों पर हों और चुनावों में नागरिकों की भी भूमिका हो, इसको लेकर चलाए जा रहे में अभियान में दिल्ली के भी कई नागरिक शामिल हुए हैं, जिनका सम्मेलन आज पारसी अंजुमन हॉल में आयोजित किया गया।
सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए दिल्ली इकाई महासचिव नवनीत तिवारी ने कहा कि स्वराज इंडिया की दिल्ली इकाई अपने स्थापना से ही दिल्ली की जनता से जुड़े मुद्दों पर काम करती रही है, चाहे वो लैंड पूलिंग का मुद्दा हो या सफाई कर्मचारियों का मुद्दा; स्वराज इंडिया की पूरी कोशिश रहेगी कि चुनावों के चकाचौंध में आम जनता के मुद्दे राजनीतिक पटल से गायब न हों जाएँ, इसके लिए रचनात्मक अभियान चलाए जाएँगे।
स्वराज इंडिया दिल्ली प्रदेशाध्यक्ष कर्नल जयवीर सिंह ने सभा के समक्ष अपनी बात रखते हुए कहा कि iCan19 दिल्ली के नागरिकों  के लिए अपने मुद्दों पर अभियान चलाने का एक सुनहरा अवसर है। iCan19 के तहत दिल्ली में स्वच्छता, सुरक्षा, सार्वजनिक परिवहन, शिक्षा, प्रदूषण इत्यादि मुद्दों पर अभियान चलाया जाएगा।
स्वराज इंडिया के कार्यकारी अध्यक्ष अजीत झा ने कहा कि देश की राजनीति आज एक ऐतिहासिक मोड़ पर खड़ी है, भारत की गंगा-जमुनी तहज़ीब और सामाजिक ताने बाने को तोड़ा जा रहा है, संस्थाओं को ध्वस्त किया जा रहा है और लोगों के असल मुद्दों को गौण किया जा रहा है। इसीलिए हमको और आपको अब आगे आना होगा ताकि असल मुद्दे और असल एजेंडे को राजनीति के केंद्र में लाया जा सके। iCAN19 मुहिम का यही उद्देश्य है जिसके माध्यम से देश के हज़ारों नागरिक आने वाले चुनाव में एक सार्थक दखल देंगे। आगामी लोकसभा चुनावों को लोकतंत्र और समाज के लिए अहम बताते हुए अजीत झा ने कहा, “आज आवश्यक है कि हम पार्टी और व्यक्तिगत हित से ऊपर उठकर देशहित में सोचे और कार्य करें।”
पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनुपम ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “आज देश बचाने का सही मतलब है देश के किसान, नौजवान और संविधान बचाना। स्वराज इंडिया ने हमेशा से असल मुद्दों पर संघर्ष किया है, सही सवाल उठाए हैं। देश में आज अगर किसान और नौजवान के मुद्दों पर चर्चा हो रही है तो उसमें स्वराज इंडिया का अहम योगदान है। युवा-हल्लाबोल आंदोलन के माध्यम से हमने बेरोज़गारी के मसले को मजबूती से देश के सामने रखा है। आज यह साबित हो चुका है कि सालाना करोड़ नौकरी देने के वादे पर सरकार में आये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने युवाओं के साथ बड़ा छल किया है। बेरोज़गारी दर 45 साल के रिकॉर्ड को तोड़ चुकी है। सिर्फ वर्ष 2018 में ही एक करोड़ से ज़्यादा रोज़गार खत्म हो गए। लेकिन ये संवेदनशील सरकार बेरोज़गारी ख़त्म करने की बजाए बेरोज़गारी के आंकडें खत्म करने में लगी है।”
पुलवामा में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए पार्टी अध्यक्ष योगेन्द्र यादव ने कहा कि आज देश के सामने आतंकवाद से लड़ने की सामूहिक चुनौती है। हमें किसी भी उन्माद या उकसावे में आए बिना एकजुट होकर इस चुनौती का सामना करना पड़ेगा। देश का मतलब सिर्फ भारत का मानचित्र नही है। इसमें भारत के लोग – किसान, नौजवान, स्त्री और पुरूष सभी हैं। कश्मीर की समस्या का समाधान संविधान और इंसानियत के दायरे में हो। आपस में लड़ने की बजाए एकजुट होकर आतंकवाद और हिंसा को शह देने वाले पाकिस्तान से लड़ना देश की सामुहिक चुनौती है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *